Khwaab

ख्वाब में तो बोहोत मिल लिये

अब जिंदगी में मिलने आ रहा हूँ

तू जो साथ है मेरे

खुश रहने लगा हूँ।

साथ था तेरा मेरा कुछ पल का

बीत गया जैसे किस्सा था कल का

मुसाफिर की तरह चल रहे हैं

मंज़िल की तलाश में

नतीजा मिलेगा मुझे कभी ना कभी

मेरी मेहनत का

Advertisements

Khamoshiyan

Tum ho yaha mei hu yaha 

Fir kyu hai Khamoshiyan

Kal bhi yaha aaj bhi yaha

Fir kyu hai waqt khoya 
Ishq mei bhi kyu hai yeh dooriyan

Kuch hai tere mere darmiyan 

Kyu machal rha hai mann

Kyu badal rahe hai hum

Sath nahi rha ab yeh aasmaan 
Naraz si hai zindagi

Kya khata hui thi humse

Beruk si hai rooh meri

Sath hoke bhi akele hai 
Sab choot sa rha hai 

Dum toot sa rha hai 

Halat bhi badal rahe hai 

Mausam bhi badal rahe hai
Udaasi si chai hui hai 

Tanha rahe bhi shor kar rhi hai

Puch rhi hai vo bhi mujse 

Tum ho yaha mei hu yaha

Fir kyu hai yeh Khamoshiyan

Apna na raha 

Khayalon mein khota hoon toh tujhe pata hoon

Tujhe sochta hoon toh khush ho jata hoon
Teri yaadon ke sahare jee jata hoon

Tere sath hota hoon toh mehek jata hoon

 Guzarta har lamha muskurana sikhata chala gaya 

Khushiyon ke nashe mei is kadar kho gaya 

Pata hi nahi chala kab tera ho gaya

What i feel

Aashiq ka imtehaan toh khuda b leta hai ae humsafar 

Warna Mohabbat bhi sare aam nilam ho chuki hoti 

Wasta na rakhna zamane se mere dost iske bas mei hota toh  insaaniyat b bikau ban chuki hoti 

Iske bas mei hota toh insaaniyat b bikau ban chuki hoti.

Mohabbat ka mazhab hi aisa hai 

Sabko apne rang mei rang leta hai 

Meherbani us khuda ka hai hum par 

Warna is mazhab ki bhi numaish bazar mei ho chuki hoti 
 

सफ़र 

सफर का मज़ा ही कुछ ऐसा होता है

नए चेहरे नयी मुलाकाते।

कुछ मुलाकाते आपके साथ हमेशा के लिए रह जाते है

कुछ मुलाकाते आपको हमेशा याद आते है।

ऐसी ही एक मुलाकात बनके ये मुलाकात भी रह गयी।

ट्रेन में अपनी सीट पे अपनी माँ को बिठाते हुए देखा उसे

मालूम नहीं था यह ऐसे मेरे साथ एक याद बन जाएगी।

शायद अब तक का सबसे सुहाना सफ़र बन कर रह जायेगा यह सफ़र।

खूबसूरत सी परी जैसे मेरे लिए ही आई हो 

नजरो में चमक और होंटो पे हलकी सी मुसकान।

सफ़र में ही रह जाने का दिल कर जाये ऐसी थी वो 

इसीलिए कहते है शायद की सफ़र का मज़ा लेना चाहिए और मंजिल के बारे में जादा नहीं सोचना चाहिए।

मंजिल से जादा अच अब सफ़र ही लगने लगा था।।।।

Fight within us 

There’s always a fight within us which everyone fights daily. Without letting it out in the world and dying a bit everyday and letting everyone belive that we live every moment. The fight which always we loses and it tooks a small part of us at the end. We lie there thinking about how to win, a fight that we dont even understand, a fight we dont even know anything about. 

What we know is that we just have to win on our terms and conditions and what we don’t understand is that life doesn’t goes on terms and conditions which our heart and mind don’t agree with. They have to be one the same page. The fight within us is the real fight we have to win for a happy life. The fight between what we are doing and what we want in real. This fight is what we lose daily and what takes a piece with it always. The emptyness we find within us is what we are looking to be filled but we dont know how it will be filled. 

What we seek to find happiness is to fill the emptyness within us and to do that we will have to win the fight or else we will create only more empty space within us. The day the fight ends you will find your heart and mind on the same page and that is what leads to happiness. The fight we lose daily can make us think what we really are and what we really want and that leads to win the war called life…..

Loneliness

ज़िन्दगी में किसी का साथ होना कितना ज़रूरी होता है।

अकेलापन इंसान को अन्दर ही अन्दर खता रहता है।

हमारी सोच ही हमे बर्बाद करती है। जितना हम सबसे छुपाते रहते है उतना ही सब बिगड़ता रहता है। हम ये मानने को तैयार नहीं होते की हमे भी किसी का साथ चाहिए और सब कुछ छुपाते रहते है। 
किस्मत का खेल भी निराला है

आज ज़माना साथ है तो कल इंसान अकेला है।

वक़्त भी अपनी करवट बदलती है

आज अपना है तो कल किसी और का।

साथ किसी का हो तो सफ़र आसान हो जाता है जीवन का 

क्युंकी ज़िन्दगी भी मुश्किलों का सिलसिला है।

राह कठिन हो तो कदम भी लडखडा जाते है 

मगर साथ कोई तो मंजिल भी मिल जाती है ।

Speechless

दर्द इतना है की बयान नहीं कर सकते,

अश्क इतने है की छुपा नहीं सकते।

होंठो पे हंसी लिए फिर भी चल रहे है ज़िन्दगी की राह पे लेकिन, 

टूट इतना गए है संभल नहीं सकते।