Khwaab

ख्वाब में तो बोहोत मिल लिये

अब जिंदगी में मिलने आ रहा हूँ

तू जो साथ है मेरे

खुश रहने लगा हूँ।

साथ था तेरा मेरा कुछ पल का

बीत गया जैसे किस्सा था कल का

मुसाफिर की तरह चल रहे हैं

मंज़िल की तलाश में

नतीजा मिलेगा मुझे कभी ना कभी

मेरी मेहनत का

Advertisements

Khamoshiyan

Tum ho yaha mei hu yaha 

Fir kyu hai Khamoshiyan

Kal bhi yaha aaj bhi yaha

Fir kyu hai waqt khoya 
Ishq mei bhi kyu hai yeh dooriyan

Kuch hai tere mere darmiyan 

Kyu machal rha hai mann

Kyu badal rahe hai hum

Sath nahi rha ab yeh aasmaan 
Naraz si hai zindagi

Kya khata hui thi humse

Beruk si hai rooh meri

Sath hoke bhi akele hai 
Sab choot sa rha hai 

Dum toot sa rha hai 

Halat bhi badal rahe hai 

Mausam bhi badal rahe hai
Udaasi si chai hui hai 

Tanha rahe bhi shor kar rhi hai

Puch rhi hai vo bhi mujse 

Tum ho yaha mei hu yaha

Fir kyu hai yeh Khamoshiyan

What i feel

Aashiq ka imtehaan toh khuda b leta hai ae humsafar 

Warna Mohabbat bhi sare aam nilam ho chuki hoti 

Wasta na rakhna zamane se mere dost iske bas mei hota toh  insaaniyat b bikau ban chuki hoti 

Iske bas mei hota toh insaaniyat b bikau ban chuki hoti.

Mohabbat ka mazhab hi aisa hai 

Sabko apne rang mei rang leta hai 

Meherbani us khuda ka hai hum par 

Warna is mazhab ki bhi numaish bazar mei ho chuki hoti 
 

सफ़र 

सफर का मज़ा ही कुछ ऐसा होता है

नए चेहरे नयी मुलाकाते।

कुछ मुलाकाते आपके साथ हमेशा के लिए रह जाते है

कुछ मुलाकाते आपको हमेशा याद आते है।

ऐसी ही एक मुलाकात बनके ये मुलाकात भी रह गयी।

ट्रेन में अपनी सीट पे अपनी माँ को बिठाते हुए देखा उसे

मालूम नहीं था यह ऐसे मेरे साथ एक याद बन जाएगी।

शायद अब तक का सबसे सुहाना सफ़र बन कर रह जायेगा यह सफ़र।

खूबसूरत सी परी जैसे मेरे लिए ही आई हो 

नजरो में चमक और होंटो पे हलकी सी मुसकान।

सफ़र में ही रह जाने का दिल कर जाये ऐसी थी वो 

इसीलिए कहते है शायद की सफ़र का मज़ा लेना चाहिए और मंजिल के बारे में जादा नहीं सोचना चाहिए।

मंजिल से जादा अच अब सफ़र ही लगने लगा था।।।।

Loneliness

ज़िन्दगी में किसी का साथ होना कितना ज़रूरी होता है।

अकेलापन इंसान को अन्दर ही अन्दर खता रहता है।

हमारी सोच ही हमे बर्बाद करती है। जितना हम सबसे छुपाते रहते है उतना ही सब बिगड़ता रहता है। हम ये मानने को तैयार नहीं होते की हमे भी किसी का साथ चाहिए और सब कुछ छुपाते रहते है। 
किस्मत का खेल भी निराला है

आज ज़माना साथ है तो कल इंसान अकेला है।

वक़्त भी अपनी करवट बदलती है

आज अपना है तो कल किसी और का।

साथ किसी का हो तो सफ़र आसान हो जाता है जीवन का 

क्युंकी ज़िन्दगी भी मुश्किलों का सिलसिला है।

राह कठिन हो तो कदम भी लडखडा जाते है 

मगर साथ कोई तो मंजिल भी मिल जाती है ।

Speechless

दर्द इतना है की बयान नहीं कर सकते,

अश्क इतने है की छुपा नहीं सकते।

होंठो पे हंसी लिए फिर भी चल रहे है ज़िन्दगी की राह पे लेकिन, 

टूट इतना गए है संभल नहीं सकते।

My Happy Space 

There is always a blank space in life which nothing can fill. A space where there are no humans allowed, a space which no one knows about, A space where all the dark secrets are kept, hidden from the world. 
When we say that we share everything with our friends, life partners, lovers, parents, there’s always a space which they don’t know about.
Our mistakes, our injuries, our cries, our fear, our sleepless nights, our unsaid words, our unsaid feelings, its always there.
A space which is not a happy place for ourselves but we keep going back to that space to remind ourselves of all that stored in there..
A space which nothing can fill but agony, a space which slowly and  only fills with pain and hurt. Which no one knows off.
A space which makes a big part of what we are. Which is hidden from everyone.space which requires us to put a mask of smile in front of others so that no question arises.

You

Manzil tumhe maan kar, raahi hum ban chale. 

Khwahish tumhe mann kar, dua hum kar chale. 

Milna na milna humara toh khuda k hath mei hai, tumhe apna maan kar mohabbat hum kar chale . 

                          – Gagan Gopinath